Home बड़ी खबर बड़ी खबर : पहली बार मीडिया के सामने आए सुप्रीम कोर्ट के...

बड़ी खबर : पहली बार मीडिया के सामने आए सुप्रीम कोर्ट के जज !….न्यायपालिका में भ्रष्टाचार, CJI ने नहीं सुनी बात’…हम नहीं बोले, तो लोकतंत्र खत्म हो जायेगा

1677
0
SHARE

नयी दिल्ली 12 जनवरी 2018। देश के इतिहास में पहला मौका है, जब सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा चार जस्टिस मीडिया के बीच पहुंचे और अपनी बातें रखी। चारो जस्टिस ने सुप्रीम कोर्ट की मौजूद स्थिति पर सवाल उठाये। प्रेस कांफ्रेंस में जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि कभी-कभी होता है कि देश के सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है. सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतांत्रिक परिस्थिति ठीक नहीं रहेगी. उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर चीफ जस्टिस से बात की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी. जस्टिस चलमेश्वर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे सीनियर जज हैं। उन्होंने कहा, “सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक काम नहीं कर रहा है। इसे लेकर हमने चीफ जस्टिस को चिट्ठी दी थी। कल कोई ऐसा मत कहे कि हमने आत्मा बेच दी।” जज चीफ जस्टिस को लिखी चिट्ठी सार्वजनिक करेंगे। बता दें, ये प्रेस कांफ्रेस जस्टिस चलमेश्वर के घर हुई। पिछले दो महीनों के हालात की वजह से इस प्रेस कॉन्फ्रेंस की नौबत आई।

उन्होंने कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा. हमने चीफ जस्टिस से अनियमितताओं पर बात की. उन्होंने बताया कि चार महीने पहले हम सभी चार जजों ने चीफ जस्टिस को एक पत्र लिखा था. जो कि प्रशासन के बारे में थे, हमने कुछ मुद्दे उठाए थे.

चीफ जस्टिस पर देश को फैसला करना चाहिए, हम बस देश का कर्ज अदा कर रहे हैं. जजों ने कहा कि हम नहीं चाहते कि हम पर कोई आरोप लगाए. यही पहली बार है कि सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं.सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जे. चलेमेश्वर ने कहा कि हम चारों मीडिया का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं. यह किसी भी देश के इतिहास में अभूतपूर्व घटना है क्‍योंकि हमें यह ब्रीफिंग करने के लिए मजबूर होना पड़ा है. उन्‍होंने कहा कि SC में बहुत कुछ ऐसा हुआ, जो नहीं होना चाहिए था. हमें लगा, हमारी देश के प्रति जवाबदेही है और हमने CJI को मनाने की कोशिश की, लेकिन हमारे प्रयास नाकाम रहे अगर संस्थान को नहीं बचाया गया, लोकतंत्र नाकाम हो जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट के जज ने कहा कि CJI को सुधारात्मक कदम उठाने के लिए कई बार मनाने की कोशिश की गई, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे प्रयास विफल रहे. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में प्रशासन सही से नहीं चल रहा है.

सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में पहली बार आज मीडिया से बात कर रहे हैं. ये चार जज आज चीफ जस्टिस से मिले थे और उनका विरोध केसों को देने का है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here