Home बड़ी खबर शिक्षाकर्मियों के लिए साल की पहली बड़ी खुशख़बरी !…करीब चार हजार वर्ग-3...

शिक्षाकर्मियों के लिए साल की पहली बड़ी खुशख़बरी !…करीब चार हजार वर्ग-3 के शिक्षाकर्मी हो जायेंगे वर्ग-2 के समकक्ष….पंचायत विभाग ने जारी किया प्रमोशन का पत्र

25679
0
SHARE

वर्ग-3 के शिक्षाकर्मियों के लिए लाइब्रेरियन में प्रमोशन की हरी झंडी, आदेश हुआ जारी

रायपुर 12 जनवरी 2017। नये साल में शिक्षाकर्मियों को पहली खुशखबरी मिली है। वर्ग-3 के शिक्षाकर्मियों को लाइब्रेरियन में प्रमोशन का आदेश विभाग ने जारी कर दिया है। पंचायत विभाग के उप सचिव तारण प्रकाश सिन्हा के आदेश से जारी पत्र में सभी जिला पंचायत सीईओ को ये निर्देश दिया गया है कि अर्हता पूरा कर रहे सहायक शिक्षक पंचायत को लाइब्रेरियन के पद पर प्रमोशन दिया जाये। ये आदेश इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस प्रमोशन के साथ वो शिक्षाकर्मी जो वर्ग-3 के हैं.. प्रमोशन पाने के बाद लाइब्रेरियन यानि वर्ग-2 के शिक्षाकर्मी के समकक्ष हो जायेंगे। प्रमोशन के बाद उन शिक्षाकर्मियों को वर्ग-2 की तरह ही वेतन भत्तो का लाभ मिलेगा।

दरअसल शिक्षक मोर्चा ने लंबे समय से इस बात की मांग की थी, कि खाली पड़े लाइब्रेरियन के पद को प्रमोशन के माध्यम से भरा जाये…। आंदोलन के दौरान भी मोर्चा ने पंचायत विभाग के सामने इस मांग को रखा था कि वैसे शिक्षाकर्मी जिन्होंने बी.लिब की डिग्री ले रखी है और प्रमोशन की अर्हता हासिल कर ली है, उन्हें लाइब्रेरियन के खाली पड़े पदों पर प्रमोशन दिया जाये। शिक्षाकर्मी संगठन के लंबे समय से चल रही मांगों के बीच आज पंचायत विभाग ने पत्र जारी कर प्रमोशन को हरी झंडी दे दी है।

शिक्षाकर्मी मोर्चा के प्रदेश संचालक संजय शर्मा और प्रदेश मीडिया प्रभारी विवेक दुबे ने इस आदेश का स्वागत करते हुए कहा है कि

शिक्षाकर्मियों के डिग्रीधारी होने के बावजूद संबंधित जिला पंचायतों द्वारा पदोन्नति नहीं दी जा रही थी। इस विषय को लेकर पंचायत विभाग के संचालक से चर्चा की गई थी और उनके सामने मांग रखी गई थी की सहायक शिक्षक पंचायत को शिक्षक पंचायत ग्रंथपाल के पद पर पदोन्नति दी जाए , इससे रिक्त पदों की पूर्ति भी होगी और शिक्षा में गुणवत्ता भी आएगी । आज इस आशय का पंचायत संचालक ने पत्र जारी कर दिया है उम्मीद है कि अब जिला पंचायत भी इस पर त्वरित कार्यवाही करेंगे ।

वहीं प्रांतीय संचालक वीरेंद्र दुबे ने भी पंचायत विभाग के इस कदम का स्वागत किया है। वीरेंद्र दुबे ने कहा कि इस आदेश से लंबे समय से प्रमोशन का रास्ता देख रहे शिक्षाकर्मियों को बैकडोर से प्रमोशन का माध्यम मिलेगा, ये विभाग की अच्छी पहल है। इसकी सराहना करनी चाहिये।

करीब 4000 पद हैं खाली 

पूरे प्रदेश में लाइब्रेरियन के करीब चार हजार पद खाली पड़े हैं। ऐसे में वर्ग तीन के शिक्षाकर्मियों के पास एक बड़ा मौका है, कि वो इन पदों में समायोजित हो जायें…क्योंकि आंकड़ों के मुताबिक 7 साल की सेवा शर्त और बी.लिब की डिग्री वाले वर्ग-तीन के शिक्षाकर्मियों की संख्या करीब 4000 हजार ही है..ऐसे में वर्ग तीन के शिक्षाकर्मियों के पास वर्ग-2 के शिक्षाकर्मियों के समकक्ष आने का बेहतर मौका है…क्योंकि लाइब्रेरियन का पद वर्ग-2 के शिक्षाकर्मियों के समकक्ष होता है।

प्रमोशन की ये रखी गयी है शर्त

इस पद पर प्रमोशन के लिए शिक्षाकर्मियों के लिए शैक्षणिक योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से पुस्तकालय विज्ञान में डिग्री या स्नातक होना चाहिये..या किसी मान्यता प्राप्त संस्था से लाइब्रेरी साइंस में एक वर्षीय डिप्लोमा होनी चाहिये। शैक्षणिक अर्हता के साथ 7 साल की सेवा पूरी कर चुके शिक्षाकर्मी ही प्रमोशन के हकदार होंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here